in ,

त्रिवेणी लिंक एक्सप्रेस को रांची से चलाने की मांग, सांसद ने रेलवे को पत्र लिखकर दिए कई सुझाव

सात अप्रैल से चलायी जाएगी रांची-देवघर के लिए स्पेशल ट्रेन
फाइल फोटो

Ranchi : बरवाडीह से यूपी के टनकपुर ( चंपावत ) तक चलनेवाली त्रिवेणी लिंक एक्सप्रेस को रांची से लखनऊ तक चलाने की मांग की जा रही है. यात्री उपलब्धता में कमी होने के कारण रेलवे ने इसे स्थायी रूप से बंद करने का आदेश जारी की है.

इसे भी पढ़ें –हाइकोर्ट ने पूछा किस परिस्थिति में सिर्फ बंगाल सरकार से एग्रीमेंट की कॉपी मांगी गई, शपथपत्र के माध्यम से जवाब दें पेयजल स्वच्छता सचिव

यूपी के सांसद ने रेलवे बोर्ड से चलाने की मांग

लेकिन यूपी के सांसद रामसकल ने रेलवे बोर्ड से इस ट्रेन को रांची से लखनऊ तक चलाने की मांग की है. उन्होंने बोर्ड से कहा है कि इस ट्रेन को बंद करने से सोनभद्र, रेणुकुट और आसपास तथा दूर दराज में रहनेवाले रेल यात्रियों को इससे असुविधा होगी. इसलिए रेलवे इस ट्रेन को रांची से लखनऊ के बीच चलाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें –बाइडेन-जिनिपिंग की बातचीत मीडिया की नजर में

ट्रेन लाभ की स्थिति में आएगी

इसे रांची-लोहरदगा और टोरी मार्ग से चलाया जाना चाहिए. यह रूट आदिवासी बहुल क्षेत्र है. इस परिवर्तन से उनकी आर्थिक दशा में सुधार होगी. उन्होंने रांची-लखनऊ को नए स्वरूप में वाया प्रयागराज, मिर्जापुर, सोनभद्र, चोपण, रेणुकुट, दुद्धीनगर, वीढ़मगंज से होकर चलाने का सुझाव दिया है. उन्होंने इस बदलाव से ट्रेन के यात्रियों उपलब्धता में और वृद्धि होने की बात कहीं. इससे ट्रेन के व्यवसायिक हानि नहीं होकर ट्रेन लाभ की स्थिति में आएगी.

इसे भी पढ़ें –NBCC ने मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव के लिए निकाली वैकेंसी, यहां देखें अपडेट

मांग रेलवे ने आज तक पूरी नहीं की है

रांची रेल मंडल से यात्री संगठनों, रेलवे उपभोक्ता सलाहकार समिति के सदस्यों और शहर के नागरिक संगठन वर्षों से लखनऊ के लिए ट्रेन की मांग करते रहे हैं. इन संगठनों की मांगों पर राज्य सरकार ने भी कई बार रेलवे बोर्ड और मंत्रालय से इस रूट में नयी ट्रेन चलाने का प्रस्ताव भेजा गया. लेकिन शहरवासियों की यह बड़ी मांग आज तक रेलवे की ओर से पूरा नहीं किया गया.

लखनऊ के साथ ही रांची से उत्तराखंड के लिए भी ट्रेन की मांग काफी पुरानी है. इन स्थानों में जाने के लिए रांची के यात्रियों को बनारस और अन्य शहरों से सफर करनी पड़ती है. बावजूद इसके यह मांग रेलवे ने आज तक पूरी नहीं की है.

इसे भी पढ़ें –पूर्व डीजीपी डीके पांडेय, पत्नी और बेटे को हाइकोर्ट से बड़ी राहत, कोर्ट ने निरस्त की प्राथमिकी

डाउनलोड करें “लगातार एप”, एक क्लिक पर पायें ताजातरीन खबरें Click here Download

Leave a Reply

Written by LAGATAR NEWS

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ठाकरे सरकार ने चार्टेड विमान नहीं दिया, बैरंग लौटे

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ठाकरे सरकार ने चार्टेड विमान नहीं दिया, बैरंग लौटे

राजधानी में बिना प्लानिंग बनायी गयी 14.1 लाख मीटर लंबी नालियां, जिसमें 65 फीसदी हो गया डेड

राजधानी में बिना प्लानिंग बनायी गयी 14.1 लाख मीटर लंबी नालियां, जिसमें 65 फीसदी हो गया डेड